नमस्कार! हमारे न्यूज वेबसाइट डेली झारखण्ड में आपका स्वागत है, खबर और विज्ञापन के लिए संपर्क करें 9939870087. हमारे फेसबुक, ट्विटर को लाइक और फॉलो/शेयर जरूर करें।
Breakingटेक्नोलॉजी

कभी 6 अंकों का होता था ATM का पिन, फिर क्यों घटाकर कर दिए गए 4 नंबर ?

ATM Pin Interesting Fact : लोगों की ज़िंदगी को आसान बनाने का काम विज्ञान ने किया है. विज्ञान के ज़रिये एक से बढ़कर एक खोज की गई, जो हमारी ज़िंदगी को पहले से ज्यादा सहज बनाती चली गई. एक ऐसी ही खोज है ATM भी, जिसके ज़रिये बैंक की लंबी लाइनों और पैसों के लिए घंटों का इंतज़ार खत्म हो गया. आज हम इसी एटीएम के पिन (Why ATM has 4 digit long pin) से जुड़ी दिलचस्प जानकारी आपसे साझा करने जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें-  नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार रवीश, प्रधानमंत्री ने निधन पर जताया दुख

इसे भी पढ़ें- ‘हेमामालिनी’ की कीटनाशक पीने से मौत

जरूरी खबर- 28 फरवरी से पहले कर ले ये काम वरना होगी बड़ी परेशानी

इसे भी पढ़ें- आम आदमी को लगने वाला है बड़ा झटका, भारत में Petrol Diesel 5-6 रुपये लीटर महंगा!

इसे भी पढ़ें-DJ हुआ बंद तो घोड़ी पर बैठ कर थाने पहुंचा दूल्हा और पूरी बारात इसके बाद…

इसे भी पढ़ें-23 से 27 फरवरी तक सितारों का उलटफेर, शनि समेत 4 ग्रह बदलेंगे राशि, जानें-किन राशि पर भारी रहेगी ग्रहों की चाल

इसे भी पढ़ें-Tata-Birla नहीं, ये है हिंदुस्तान की सबसे पुरानी कंपनी, जहाज बनाने से शुरुआत

इसे भी पढ़ें-Paytm ने आम आदमी से लेकर बड़े अमीरों को दिया जोर का झटका; जानें क्या हुआ?

इसे भी पढ़ें-17 फरवरी से शुरू फाल्गुन माह, देखें व्रत-त्योहार की लिस्ट

इसे भी पढ़ें-Smartphone से लेकर Refrigerator तक, जानिए 1 अप्रैल से क्या होगा सस्ता और महंगा

इसे भी देखें- रिश्वत लेने के आरोपी सब इंस्पेक्टर को पकड़ने 1 KM तक दौड़ी एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम

इसे भी पढ़ें- ‘पापा आप के राज में कोई खुश नहीं रह सकता’…. लिख 11वीं मंजिल से कूदी फैशन डिजाइनर

बैंकिंग के इतिहास की सबसे कामयाब खोज है एटीएम मशीन. इस मशीन की खोज एक स्कॉटिश वैज्ञानिक ने की थी, जिनका नाम जॉन एड्रियन शेफर्ड बैरन (John Shepherd-Barron) था. दिलचस्प बात तो ये है कि शेफर्ड बैरन का जन्म भारत में ही शिलॉन्ग शहर में हुआ था. उन्होंने ही साल 1969 में पैसे उगलने वाली मशीन की खोज की, जो दुनिया भर में पॉपुलर हुई.

आखिर 4 अंकों का क्यों रखा पिन ?
अब बड़ा सवाल ये कि आखिर शेफर्ड बैरन ने एटीएम मशीन बनाकर इसमें जब कोडिंग सिस्टम लगाया तो पिन का नंबर 4 अंकों का ही क्यों रखा? वैसे आपको जानकर हैरानी होगी कि शुरुआती दौर में उनका ज़रा भी ये प्लान नहीं था कि पिन 4 अंकों का हो, बल्कि वो तो इसे 6 अंकों का रखना चाहते थे. जब उन्होंने अपनी पत्नी कैरोलिन पर इससे जुड़ा प्रयोग करने की कोशिश की तो बार-बार उनकी पत्नी 6 अंकों में 2 अंक भूल जाती थीं और उन्हें सिर्फ 4 अंक ही याद रह जाते थे. इसी वक्त उन्हें पता चला कि औसतन इंसानों का दिमाग 6 के बजाय 4 अंक आसानी से याद रख सकता है.

 

ज्यादा सुरक्षित था 6 अंकों का पिन

बाद में भले ही शेफर्ड बैरन ने एटीएम मशीन का पिन 4 अंकों का रख दिया हो, लेकिन इसे 6 अंकों का रखने के पीछे उनका मकसद इसका सुरक्षित होना था. 4 अंकों के एटीएम पिन 0000 से 9999 के बीच होते हैं. इससे अलग-अलग 10000 पिन नंबर रखे जा सकते हैं, जिनमें 20 फीसदी पिन हैक किए जा सकते हैं. हालांकि 4 अंकों का पिन भी आसानी से हैक नहीं हो सकता, लेकिन 6 अंकों के पिन से कम सुरक्षित है. वैसे कुछ देशों में आज भी 6 अंकों का ही एटीएम पिन इस्तेमाल किया जाता है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button