नमस्कार! हमारे न्यूज वेबसाइट डेली झारखण्ड में आपका स्वागत है, खबर और विज्ञापन के लिए संपर्क करें 9709180001. हमारे फेसबुक, ट्विटर को लाइक और फॉलो/शेयर जरूर करें।
BreakingHeadlineझारखण्ड

झारखंड के सभी शिक्षकों के लिए सरकार के तरफ से जरूरी सूचना, जानें?

Jharkhand school: झारखंड में सरकारी स्कूल की शिक्षा में दिक्कतें रोज आ रही हैं।  झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो खुद सरकारी स्कूलों की पढ़ाई से संतुष्ट नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें- आम आदमी को लगने वाला है बड़ा झटका, भारत में Petrol Diesel 5-6 रुपये लीटर महंगा!

इसे भी पढ़ें- अब नहीं होगी जंग? यूक्रेन बॉर्डर से रूसी सैन्य टुकड़ियों की वापसी शुरू; जानें कैसे रुका सबसे बड़ा विश्वयुद्ध

इसे भी पढ़ें-DJ हुआ बंद तो घोड़ी पर बैठ कर थाने पहुंचा दूल्हा और पूरी बारात इसके बाद…

इसे भी पढ़ें-23 से 27 फरवरी तक सितारों का उलटफेर, शनि समेत 4 ग्रह बदलेंगे राशि, जानें-किन राशि पर भारी रहेगी ग्रहों की चाल

इसे भी पढ़ें-Tata-Birla नहीं, ये है हिंदुस्तान की सबसे पुरानी कंपनी, जहाज बनाने से शुरुआत

इसे भी पढ़ें-Paytm ने आम आदमी से लेकर बड़े अमीरों को दिया जोर का झटका; जानें क्या हुआ?

इसे भी पढ़ें-17 फरवरी से शुरू फाल्गुन माह, देखें व्रत-त्योहार की लिस्ट

इसे भी पढ़ें-Smartphone से लेकर Refrigerator तक, जानिए 1 अप्रैल से क्या होगा सस्ता और महंगा

इसे भी देखें- रिश्वत लेने के आरोपी सब इंस्पेक्टर को पकड़ने 1 KM तक दौड़ी एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम

इसे भी पढ़ें- ‘पापा आप के राज में कोई खुश नहीं रह सकता’…. लिख 11वीं मंजिल से कूदी फैशन डिजाइनर

इसी बीच झारखंड जिला परियोजना परिषद की बैठक में उनका गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने कहा, ‘सरकार हर बच्चे पर सालाना 22 हजार रुपए खर्च करती है, लेकिन अब तक शिक्षा व्यवस्था दुरुस्त नहीं हो पाई। अगर शिक्षा व्यवस्था दुरुस्त नहीं हुई तो राज्य के करीब 42 हजार स्कूलों को निजी हाथों में दे दिया जाएगा।’

क्या है बात?

दरअसल, चालू वित्तीय वर्ष के 43 दिन बचे हैं, लेकिन शिक्षा विभाग 450 करोड़ रुपए खर्च नहीं कर पाया है।

ये पैसे छात्रों के बौद्धिक कार्यकलापों और शारीरिक विकास मद में खर्च होने थे।

अब इन पैसों को सरेंडर करने की नौबत आ गई है।

बैठक में मंत्री ने जिला शिक्षा अधिकारी और जिला शिक्षा अधीक्षक से पैसे खर्च न होने का कारण पूछा, लेकिन किसी ने संतोषजनक जवाब नहीं दिया।

इस पर मंत्री ने एक महीने में पैसे खर्च करने और शिक्षा व्यवस्था दुरुस्त करने का अल्टीमेटम दिया।

उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं हुआ तो जिम्मेदार अफसर सस्पेंड होंगे।

शिक्षकों के लिए क्या है जरूरी खबर, कैसे सुधरेंगे हालात?

  • बैठक में शिक्षा सचिव राजेश कुमार शर्मा ने बताया, ‘सरकारी स्कूलों की व्यवस्था तभी सुधरेगी, जब शिक्षकों की उपस्थिति शत प्रतिशत होगी।
  • इसके लिए जिला शिक्षा अधिकारियों और प्रखंड शिक्षा अधिकारियों को मॉनिटरिंग करनी होगी।
  • वे BRP और CRP को आदेश जारी करें कि वह तीन स्कूलों में जाकर शिक्षकों की उपस्थिति की जांच करें। इससे हालात बेहतर होंगे।’

शिक्षा मंत्री ने बोकारो, हजारीबाग, रामगढ़, पलामू, बरही, चाईबासा और लातेहार के जिला शिक्षा पदाधिकारियों को भी फटकार लगाई। उन्होंने कहा, ‘सरकारी स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता काफी निम्न है। 22 सालों में भी इसमें सुधार नहीं हुआ। ऐसा इच्छाशक्ति की कमी के कारण हुआ है। जो शिक्षक सरकारी नौकरी से रिजेक्ट हो जाते हैं, वैसे शिक्षक निजी शिक्षक कहलाते हैं। फिर भी अभिभावक अपने बच्चों को सरकारी की जगह निजी स्कूलों में भेजने को प्राथमिकता देते हैं। हमें यह मानसिकता बदलनी होगी। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पर ध्यान देना होगा। इसके लिए सरकार हर कदम उठाने को तैयार है।’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button