नमस्कार! हमारे न्यूज वेबसाइट डेली झारखण्ड में आपका स्वागत है, खबर और विज्ञापन के लिए संपर्क करें 9939870087. हमारे फेसबुक, ट्विटर को लाइक और फॉलो/शेयर जरूर करें।
झारखण्ड

पहली सोमवारी पर शिवालयों में उमड़ी भीड़

बाबा बैद्यनाथ धाम में भक्तों की लगी लंबी कतार

रांची। पवित्र सावन महीने की पहली सोमवारी पर राज्यभर के शिवालयों में जलाभिषेक के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखी जा रही है। राजधानी रांची के पहाड़ी मंदिर में जलाभिषेक के लिए देर रात से ही श्रद्धालु स्वर्णरेखा नदी से जल लेकर मंदिर पहुंचने लगे थे और मंदिर का पट खुलते ही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी।

देवघर स्थित स्थित बाबा बैद्यनाथ धाम में भी सावन की पहली सोमवारी पर भक्तों की भारी भीड़ उमड़ रही है । प्रातःकालीन सरकारी श्रृंगार पूजा के बाद आम श्रद्धालुओं के लिए बाबा मंदिर का पेट जलार्पण और दर्शन के लिए खोल दिया गया। पूरा बाबा धाम बोलबम के नारों से गुंजायमान है।भक्तो की कतार काफी लंबी होगयी है। सोमवारी के धार्मिक महत्व के कारण काफी संख्या में कांवरिया और भक्त बाबा धाम जलार्पण केलिय रात में ही पहुंच गए थे। अभी कांवरियो का प्रवाह बाबा धाम में निरंतर जारी है।सभी कावंरियों को कतारबद्ध तरीके से बाबा मंदिर में प्रवेश कराया जा रहा है। प्रशासन पल पल की गतिविधि पर नजर बनाए हुए हैं ।

इधर, दुमका जिले के विश्व प्रसिद्ध वासुकिनाथ धाम में आज  सावन की पहली सोमवारी को पुरोहित पूजा के उपरांत 3 बजकर 20 मिनट पर जलार्पण प्रारंभ हुआ। बोल बम और हर हर महादेव के जयघोष के साथ बड़ी संख्या में कांवरया और शिवभक्त कड़ी सुरक्षा के बीच  जलार्पण किया। दुमका की उपायुक्त राजेश्वरी बी और एसपी वाई एस रमेश मंदिर प्रांगण में उपस्थित होकर कांवरियों की भीड़ पर नजर रख रहे थे।  उपायुक्त राजेश्वरी बी ने कहा कि अर्घा सिस्टम से बाबा पर जल चढ़ा रहे हैं। मंदिर का पट खुलने के चार घंटे के अंदर बीस हजार श्रद्धालुओ बाबा पर जल चढ़ाया और अनुमान किया जाता है कि पहली सोमवारी पर करीब एक लाख कांवरियां बाबा पर जल चढ़ाया।  वहीं विधि व्यवस्था में लगे एसपी वाय एस रमेश ने कहा कि सुबह ही कांवरियों की काफी भीड़ थी। इसलिए तीन लाईनों में कांवरियों को लगाया गया, जिसे जल्द ही कांवरियो की भीड पर काबू पाया जा सका। कांवरियों की लाईन की लंबाई पानी टंकी तक पहुंच गई थी। वहीं भागलपुर से गंगाजल लेकर सीधा बासुकिनाथ आने वाले डाक कांवरियों ने भी सबेरे-सबेरे बाबा का जलाभिषेक किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button