नमस्कार! हमारे न्यूज वेबसाइट डेली झारखण्ड में आपका स्वागत है, खबर और विज्ञापन के लिए संपर्क करें 9939870087. हमारे फेसबुक, ट्विटर को लाइक और फॉलो/शेयर जरूर करें।
BreakingHeadlineधार्मिक

17 फरवरी से शुरू फाल्गुन माह, देखें व्रत-त्योहार की लिस्ट

Falgun month starting: फाल्गुन हिन्दू पंचांग का अंतिम महीना होता है. इस महीने की पूर्णिमा को फाल्गुनी नक्षत्र होने के कारण इसका नाम फाल्गुन पड़ा है. इसे आनंद और उल्लास का महीना कहा जाता है.

इसे भी पढ़ें-  चारा घोटाला मामले में लालू सहित 75 आराेपित दोषी करार

इसे भी पढ़ें- Valentine Day Special : रील लाइफ से रियल लाइफ तक कुछ ऐसी है इन सितारों की लव स्टोरी

इसे भी देखें- मौत की कुश्ती: पहलवान का एक दांव और सामने वाली की तुरंत हुई मौत

इसे भी पढ़ें – बॉलीवुड में अधूरी रही इन हस्तियों की प्रेम कहानी

इसे भी पढ़ें- सावधान! जल्द लौटा दे अपने दोस्त के पैसे वरना हो सकता है ये अंजाम?

इसे भी पढ़ें- जरूरी खबर: प्लास्टिक से बने चम्मच, गिलास से लेकर झंडे-ईयरबड तक सब बैन

इसे भी पढ़ें- झारखंड में 16 से फिर दिखा मौसम में बदलाव, एक हफ्ते तक बारिश के आसार; इन इलाकों में दिखेगा असर

इस महीने विवाह और वैवाहिक जीवन के प्रयोग विशेष सफल होते हैं. बसंत का प्रभाव होने से इस महीने प्रेम और रिश्तों में बेहतरी आती जाती है. फाल्गुन में श्रीकृष्ण और देवी रुक्मिणी की उपासना को उत्तम बताया गया है. इस बार फाल्गुन मास 17 फरवरी से 18 मार्च तक रहेगा.

 

फाल्गुन माह के व्रत-त्योहार
फाल्गुन शुक्ल अष्टमी को मां लक्ष्मी और मां सीता की पूजा का विधान है. फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को भगवान शिव की उपासना का महापर्व शिवरात्रि भी मनाई जाती है. फाल्गुन में ही चन्द्रमा का जन्म भी हुआ था. इसलिए इस महीने में चन्द्रमा की भी उपासना होती है. फाल्गुन में प्रेम और आध्यात्म का पर्व होली भी आती है. इसी महीने में दक्षिण भारत में उत्तिर नामक मंदिरोत्सव भी मनाया जाता है.
  • विजया एकादशी- 26 फरवरी 2022
  • महाशिवरात्रि- 01 मार्च 2022
  • फाल्गुन अमावस्या- 02 मार्च 2022
  • फुलैरा दूज- 04 मार्च 2022
  • आमलकी एकादशी- 14 मार्च 2022
  • होलिका दहन- 17 मार्च 2022
  • होली- 18 मार्च 2022
फाल्गुन में किस देवता की उपासना करें?
फाल्गुन महीने में श्री कृष्ण की पूजा उपासना विशेष फलदायी होती है. इस महीने बाल कृष्ण, युवा कृष्ण और गुरु कृष्ण तीनों ही स्वरूपों की उपासना की जाती है. संतान के लिए बाल कृष्ण की पूजा करें. प्रेम और आनंद के लिए युवा कृष्ण की उपासना करें
ज्ञान और वैराग्य के लिए गुरु कृष्ण की उपासना करें.
नियम और सावधानियां
इस महीने शीतल या सामान्य जल से स्नान करें. भोजन में अनाज का प्रयोग कम से कम करें. अधिक से अधिक फल खाएं. कपड़े ज्यादा रंगीन और सुन्दर धारण करें. सुगंध का प्रयोग करें. नियमित रूप से भगवान कृष्ण की उपासना करें. पूजा में फूलों का खूब प्रयोग करें. इस महीने में नशीली चीजों और मांस-मछली के सेवन से परहेज करें.
फाल्गुन के महाउपाय
फाल्गुन के महीने में भगवान कृष्ण की नियमित पूजा करनी चाहिए. उन्हें पूरे महीने अपने मनपसंद रंग का गुलाल अर्पित करना चाहिए. इससे तमाम तरह की मनोकामनाएं पूर्ण होंगी. रोज सुबह स्नान के बाद भगवान श्रीकृष्ण की उपासना करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति हो सकती है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button